Monday, October 18, 2010

तुम्हारे इंतजार में

तुम्हारे इंतजार में

ये इंतजार के दिन काँटों से चुभते हैं

और ये सावन के दिन भी ना भाते है

तुम्हारे इंतजार में

ना पूछो, तुम्हारे इंतजार में

खयालो में कई बार खो जाती हूँ

तुम्हारी तस्वीर से दिल बहलाती हूँ

तुम्हारे इंतजार में

हाँ, तुम्हारे इंतजार में

शामे मेरी सुलगती रहती है

दिल में दर्द की लहर उठती है

तुम्हारे इंतजार में

सिर्फ, तुम्हारे इंतजार में

राते चाँद से बातों में गुजारती हूँ

आंसूओं से रात कि स्याही धोती हूँ

तुम्हारे इंतजार में

साजन, तुम्हारे इंतजार में


43 comments:

  1. इंतजार भी बड़ी जालिम चीज है,खत्‍म होने का नाम ही नहीं लेती। एक खत्‍म होता है तो दूसरा इंतजार शुरू हो जाता है।

    ReplyDelete
  2. खयालो में कई बार खो जाती हूँ

    तुम्हारी तस्वीर से दिल बहलाती हूँ

    विरहा के मनोभावों का बहुत ही अच्छा चित्रण किया है आपने.यकीन मानिए जब वो मिलेंगे तब ये सारी पीड़ा याद ही नहीं आयेगी.

    ReplyDelete
  3. मनोभावों का प्रभावी चित्रण ..
    सुन्दर

    ReplyDelete
  4. इंतज़ार की शिद्दत को
    बहुत असरदार सतरों में ढाल दिया है आपने
    तन्हाई के आलम में साथ निभाने वाली रचना .

    ReplyDelete
  5. pyar me intzar ka maza kuch aur hi hota.
    bahut hi sundar rachna hai. aabhar.

    ReplyDelete
  6. @ राजेश जी
    आपका कहना सही है, जिंदगी जैसे एक अंतहीन सिलसिला है ...

    ReplyDelete
  7. कोमल भावनाओं को सुंदर शब्दों में बांधा है आपने...बधाई।

    ReplyDelete
  8. @ यशवंत
    आपको वो "निकाह" का गाना याद है ...
    शायद उनका आखरी हो ये सितम
    हर सितम ये सोचकर हम सह गए

    ReplyDelete
  9. @ वर्मा जी, एहसास, मुफलिस, और महेंद्र जी
    आप सबको शुक्रिया सराहने के लिए ...

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रस्तूतिकरण

    राते चाँद से बातों में गुजारती हूँ

    आंसूओं से रात कि स्याही धोती हूँ

    शानदार शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  11. कोरल जी ,
    अब तो इन्तजार खत्म हुआ .....
    आपका और इन्द्रनील जी का कमेन्ट साथ साथ आया है .....
    दुआ है आपकी मोहब्बत यूँ ही जिन्दा रहे .....!!

    ReplyDelete
  12. इंतजार है की ख़तम ही नही होता

    बहुत खूब

    बहुत अच्छी रचना

    कभी यहाँ भी आये
    www.deepti09sharma.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. खयालो में कई बार खो जाती हूँ
    तुम्हारी तस्वीर से दिल बहलाती हूँ

    मन को छूने वाली पंक्तियाँ .....
    अच्छी लगी आपकी रचना

    ReplyDelete
  14. दिल में उठने वाले जजबातों को आपने सुंदर शब्दों मे ढाला है!...उत्तम रचना!

    ReplyDelete
  15. @ हरकीरत जी
    आपका कहना सही है, इंतज़ार खतम हुआ पर ये कविता मैंने इंतज़ार की घड़ियों में ही लिखी थी ...

    ReplyDelete
  16. @ सुज्ञ, दीप्ती शर्मा एंड संजय भास्कर
    आप सबको अनेक धन्यवाद !

    ReplyDelete
  17. सुंदर भाव ,सराहनीय रचना ।

    ReplyDelete
  18. ... बहुत सुन्दर !!!

    ReplyDelete
  19. वाकई में प्रेम-पगी सुन्दर अभिव्यक्ति है!

    ReplyDelete
  20. @ अजय जी, उदय जी और शास्त्री जी,
    सराहने के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  21. इंतजार का फल हमेशा मीठा होता है . आंसू द्वारा रात कि स्याह रोशनाई को धोने वाला बिम्ब अच्छा लगा .

    ReplyDelete
  22. अति सुन्दर प्रस्तुति . धन्यवाद

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत शब्दों की उम्दा बानगी..... अच्छी लगी आपकी रचना ....

    ReplyDelete
  24. उफ, यह इन्तज़ार कितना कड़वा होता है।

    ReplyDelete
  25. हाँ, तुम्हारे इंतजार में

    शामे मेरी सुलगती रहती है

    दिल में दर्द की लहर उठती है

    तुम्हारे इंतजार में

    सिर्फ, तुम्हारे इंतजार में

    राते चाँद से बातों में गुजारती हूँ

    आंसूओं से रात कि स्याही धोती हूँ

    Injar hota hee hai aisa dard bhara lamba ki lagne lagta hai inteha ho gaee intjar kee.
    Bahut bhawbhari komal kawita.

    ReplyDelete
  26. अच्छी लगी यह रचना।

    ReplyDelete
  27. इंतज़ार के विभिन्न पहलुओं को अभिव्यक्त करती यह अभिव्यक्ति एक शे’र याद दिल गई’
    तुम इतनी देर लगाया न करो आने में
    कि भूल जाये कोई इन्तिज़ार करना भी

    ReplyDelete
  28. @ashish , राज भाटिय़ा, डॉ. मोनिका शर्मा , स्मार्ट इंडियन, हास्यफुहार

    आप सभी का शुक्रिया !

    ReplyDelete
  29. सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  30. आपकी कविता " तुम्हारे इंतज़ार में " पढ़ी.अच्छी लगी.
    किसी का कहा हुआ इंतज़ार पर एक बहुत ही अच्छा शेर याद आ रहा है.शायद आप को भी अच्छा लगे.
    शेर है :-
    वादा किया था फिर भी न आये मज़ार पर,
    हमने तो जान दे दी इसी एतबार पर.

    कुँवर कुसुमेश

    ReplyDelete
  31. इंतज़ार का मज़ा तो इंतज़ार करने वाले ही समझते हैं। --सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  32. virah ki vedna ko bakhoobhi ukera haai aapne..gud one :)

    ReplyDelete
  33. राते चाँद से बातों में गुजारती हूँ
    आंसूओं से रात कि स्याही धोती हूँ

    -दर्द महसूस किया इन्तजार का....बहुत कोमल रचना.

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब!!!!!!!!!!!!!!!!इंतज़ार. अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  35. इंतज़ार में सुंदर रचना रच डाली. प्रेम पगी विरह रचना.बधाई.

    ReplyDelete
  36. वैसे भी कहा गया है इंतजार के फल मीठे होते हैं !
    सुन्दर अभिव्यक्ति !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ
    www.marmagya.blogspot.com

    ReplyDelete
  37. राते चाँद से बातों में गुजारती हूँ

    आंसूओं से रात कि स्याही धोती हूँ

    तुम्हारे इंतजार में

    साजन, तुम्हारे इंतजार में

    wah kya intezaar hai ?
    sundar likhaa hai
    us ghadi ka shukriya jab aapne mere Blog per aakar comment kiya. mere liye ye bahut achchha rahaa isliye nahi ki aapne meri taaref ki magar isliye ki us comment ne aapke blog ka raasta dikhaa diya.

    ReplyDelete
  38. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  39. राते चाँद से बातों में गुजारती हूँ

    आंसूओं से रात कि स्याही धोती हूँ .... bahut bahvuk kavita..

    ReplyDelete
  40. 'तुम्हारे' इंतज़ार की वज़ह क्या है?
    हम तो अघा गए एक टिप्पणीकार के इंतज़ार में
    एक फोलोअर की बाट जोहते सपने में
    न रात की फिक्र, न दिन में चैना
    बस अब एक ही आस कि
    'कोरल' जितने फोलोअर अपने भी हों.

    ReplyDelete
  41. इंतजार में इंतजार में इंतजार. इंतज़ार खतम हुआ सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  42. kisi ka intezaar bhi kitna dard deta hai ... kabhi suhaana ho jaata hai ... bahut khoob ...

    ReplyDelete

टिप्पणी के लिए आपका बहुत धन्यवाद. आपके विचारों का स्वागत है ...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...