Saturday, January 29, 2011

बस एक और हो जाये ....

हीरा (Diamond) है सदा के लिए .... जब भी ये विज्ञापन टीवी पे आता है तो मेरे ख्याल से हर लड़की और औरत की नजर उस तरफ मुड जाती है । मैं भी इस की दीवानी हूँ । सिर्फ इसलिए नहीं कि यह मेरी सौंदर्य में चार चाँद लगायेगा (वो तो है ही, इन बातों को मैं नकारुंगी नहीं) पर इसके सिवा भी एक और बात है, और वह यह है कि हीरा कुदरत की एक अनमोल भेंट है। इसके जडन-गढन का इतिहास मुझे ज्यादा आकर्षित करता है ।
इस लिए मुझे भी लगता है कि .... इन्द्रनिलजी
... और बसएक और हो जाए

आईये मै आपको इसकी सुन्दरता और कुछ ज़रूरी जानकारियों से रूबरू कराऊँ ।

हीरा - Diamond ग्रीक शब्द “adamas” से लियाया है जिसका मतलब है अटूट

हीरा दुनिया का सबसे कठोर वस्तु है । हीरा दरअसल कार्बन (कोयला ) का शुद्धतम रूप है ।

हीरे का निर्माण :

हीरा पृथ्वी के गर्भ में ऐसी जगह बनता है जहाँ का ता साधारणत २२०० डिग्री सेलसिअस और दबाव ५ गीगापास्कल होता है । ऐसी अवस्था ज़मीन से सामान्यतया १५० किलोमीटर के निचे होती है ।

व्यावसायिक रूप से हीरा ज्वालामुखी के स्फोटन से सबंधित खदानो से प्राप्त किया जाता है । जिसका प्रमुख उदहारण किम्बरले डीपोसिट (kimberlite and lamproite deposits) दक्षिण अफ्रीका है ।

इसके सिवा भी हीरे का एक और प्रकार है जिसे Black diamond या carbonado कहा जाता है और जो दक्षिण अमेरिका तथा अफ्रीका में पाया जाता है । माना जाता है कि उल्का पिंड / उल्कापात से बनता है ।

हीरे रंगहीन पारदर्शी या फिर अनेक रंगों में पाया जाते है रंग कुछ रचना की त्रुटि (lattice defects) के कारण तथा कुछ रासायनिक अशुद्धता के कारण होता है ।

हमारे भूभाग पर सबसे ज्यादा ४९ % हीरे मध्य तथा दक्षिण अफ्रीका में पाए जाते है। इसके अलावा कनाडा, भारत, रशिया, ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया में कई जगह पाए जाते है ।

भारत में पन्ना (मध्य प्रदेश) , कृष्णा, कडप्पा, गुंटूर, मोब्बतनगर, अनंतपुर ( सब खदाने दक्षिण भारत में हैं) इत्यादि जगहों पे हीरे पाए जाते हैं। अभी भारत में सिर्फ एक हीरे का खदा क्रियाशील है जो मध्यप्रदेश के पन्ना में स्थित है ।

कुछ भारतीय प्रसिद्ध हीरे :

कोहिनूर गोलकोंडा (आंध्रप्रदेश) के खदानों से प्राप्त किया गया था । कहा जाता है कि ये दुनिया का सबसे बड़ा हीरा था । इस का वजन उस वक्त १८६ केरेट था, जिसका आकार लगभग एक मुर्गी के अंडे के बराबर था । अभी इसका वजन १०५ केरेट (२१.६ ग्राम )है

Hope Diamond दुनिया का सबसे प्रसिद्ध नीला हीरा माना जाता है जो कि गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया गया है। आज हीरा अमेरिका का Natural History Museum में रखा गया है । इस हीरे को लेकर कई कहानियां प्रसिद्ध है । जिसमें कहा गया है कि हीरा देवी सीता के माथे से चुराया गया है और जो भी इसे छुता है या अपने पास रखने की कोशिश करता है उसका सर्वनाश होता है

Regent Diamond यह एक प्रसिद्ध पारदर्शी हीरा है जो १४०.६४ केरेट का है और अभी फ्रांस के पास है । यह हीरा भी गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया है ।

Sancy Diamond - यह हलके पीले रंग का हीरा गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया गया ! यह हीरा मुघलों के पास था । अभी ये हीरा फ्रांस के पास है ।

The Florentine Diamondहलके पीले रंग का १३७ केरेट का हीरा है जो गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया गया था ।

उपयोगिता : रत्न के सिवा हीरे को बहुत सी व्यावसायिक प्रक्रिया में उपयोग किया जाता है ।हीरा दुनिया का सबसे कठोर वस्तु है । इसकी कठोरता (hardness) की वजह से इसे उद्योगों में पीसने या रगड़ने की वस्तु (abrasive ) तथा काटने के औजार (diamond drills, Blades ) के हिसाब से उपयोगिता में लाया जाता है। हीरे का उपयोग क्ष-किरण (X -Ray ) मशीन, कर्क रोग उपचार, प्रसाधन सामग्री इत्यादि में होता है ।

हीरा खरीदने से पहले इन ४ बातों का ध्यान रखना चाहिए, हालाँकि आज कल एक पांचवी बात भी ज़रूरी हो गई है ।

ये चार बातें हैं वो जिसे Diamond 4C बोला जाता है:

· Cut / काटने का ढंग

· Clarity / स्पष्टता

· Color / रंग

· Carat weight / कैरट/ रत्ती

और जो सब से जरुरी पांचवी बात है, वो है – Certificates यानि कि प्रमाणपत्र

इस के बारे में आप यहाँ पर विस्तार से पढ़ पाएंगे

http://www.thediamondbuyingguide.com/fourcsofdiamonds.html

http://en.wikipedia.org/wiki/Diamond

Thursday, January 27, 2011

मेरा प्रोफाइल फोटो -२

मैंने इस बात पे पहले भी यहाँ लिखा है कि मैंने क्यूँ इस अफगानी भद्र महिला की तस्वीर बतौर "प्रोफाइल फोटो" चुना था लेकिन जब से (४ सालो से) ये फोटो हमने हमारे "सोशल नेटवर्क" तथा ब्लॉग पर लगाया है, तबसे न जाने कितने लोगो ने हमसे इसे बदलने का अनुरोध किया ...
पर हम भी डटे रहे ....
कि जब तक इन्द्रनील मेरा एक स्केच नहीं बना देते हैं ... तब तक हम इसे नहीं बदलेंगे ...
और आज ८ साल बाद वो दिन आ ही गया सुब्रमनियम अंकल, आपका ढेरो शुक्रिया जो आपने मेरी पिछली पोस्ट पर ऐसी प्रतिक्रिया दी ... कि इन्द्रनील भी कमर कसके लग पड़े और एक ही दिन में मेरा एक 3D इफेक्ट वाला स्टेंसिल पोर्ट्रेट बना ही दिया
आशा करती हूँ कि अब मेरी तस्वीर देख कर कोई घबरायेगा नहीं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...