Tuesday, September 21, 2010

ऐसी भी होती है टिप्पणियां

आज हमने मेल बॉक्स खोला तो चिन्मयी और मेरे ब्लॉग पर कुछ कमेंट्स थे ! जब टिप्पणियां आती है तो बहुत अच्छा लगता है झट से खोला, पर टिप्पणियां पढ़ी नहीं गयी, किसी अजनबी दोस्त ने दिए थे एक के बाद एक ३ टिप्पणिया, दोनों के लिए एक जैसी सारे के सारे किसी अस्वस्थ मानसिकता की गन्दी टिप्पणियां ....

बहुत बुरा लगा, कि क्या मानसिकता है ये कोई ऐसा कायर इंसान है जो अपनी बीमार मनोवृत्ति का परिचय दे रहा है ऐसे कमेंट्स तुरंत हटाना ज़रूरी होता है पर मैं भी रोज ब्लॉग चेक नहीं कर पाती हूँ इसलिए अब ये ज़रूरी हो गया है कि कहीं तो रोक लगाई जाय

इसलिए कमेन्ट मोडरेशन सक्षम कर रही हूँ

ऐसी मानसिकता वाले लोगों को रोकने का यही एक तरीका फ़िलहाल है मेरे पास आशा करती हूँ आप मेरे इस फैसले का साथ देंगे

शुक्रिया

24 comments:

  1. हर तरह के लोग हैं क्या किया जाये

    ReplyDelete
  2. Trupti Indranil जी,
    हम भी चाँद दिनों पहले इसी से परेशान थे, चिंता न करे ...........

    इसे भी पढ़े और कुछ कहे :-
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/86.html

    ReplyDelete
  3. Moderation is the only sensible way but it delays communication.

    ReplyDelete
  4. बिल्कुल ठीक किया

    ReplyDelete
  5. इस तरह की टिप्पणियों को ब्लॉग जगत में जगह न दें।

    ReplyDelete
  6. ऐसे बहुतेरे ब्लोग्स हैं जहाँ या तो मोडरेशन है या फिर वर्ड वेरिफिकेशन. बिलकुल सही कदम.

    ReplyDelete
  7. अगर आप बेनामी टिप्पणियाँ लेना बंद कर दे तो भी समस्या कम हो जायेगी.. अक्सर ऐसे लोग बेनामी लिखते हैं..नाम लिखने की तो हिम्मत होती नहीं!

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    काव्य प्रयोजन (भाग-९) मूल्य सिद्धांत, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. अफ़सोस की बात है की लोग ऐसी मानसिकता रखते हैं...... टिप्पणी मोडरेशन ही सही
    रास्ता है.... पूरी तरह आपके साथ......प्रवीणजी की बातों से भी सहमत.... की ऐसी टिप्पणियों की ब्लॉगजगत में कोई जगह ना हो

    ReplyDelete
  11. कुछ न कुछ मिल ही जायेगा...

    ReplyDelete
  12. .

    कोरल जी,
    कुछ विकृत मानसिकता वाले अभद्र टिप्पणियां करते हैं, उनका यही एक इलाज है ।
    सही निर्णय है आपका ।

    .

    .

    ReplyDelete
  13. घटिया और गिरी हुई मानसिकता से ग्रस्त लोगों
    के लिए कोई न कोई तो सज़ा चाहिए ही ...
    आपने भी उचित क़दम उठाया है
    भगवान् जी का पावन आशीर्वाद आपके साथ रहे,,,
    यही प्रार्थना करता हूँ

    ReplyDelete
  14. कमेंट मोडरेशन निसन्देह ज़िम्मेदार ब्लॉगिंग का हिस्सा है।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सही निर्णय लिया है आपने ।

    ReplyDelete
  16. नमस्कार, इन का इलाज है अनामी टिपण्णियां बंद कर दे , ओर मोडरेशन चार दिन पुरानी टिपण्णियो पर लगा दे, जेसे नयी पोस्ट पर चार दिन तक तो सभी टिपण्णियां झट से दिखाये बाकी माडरेशन, बाकी अगर कोई अपने नाम से या अपनी पहचान से ऎसी बकवास टिपण्णियां दे तो उसे सब के सामने पेश करे, ताकि वो आदमी हम सब के सामने हो ओर सब मिल कर हटा दे अपनी लिस्ट से, वेसे ऎसी टिपण्णियां विकृत मान्सिकता वाले लोग ही करते है, इस लिये इन पर ज्यादा ध्यान ही मत दे

    ReplyDelete
  17. यह सही किया आपने आंटी जी.....

    ________________

    'पाखी की दुनिया' में अंडमान के टेस्टी-टेस्टी केले .

    ReplyDelete
  18. trupti ji moderation jaruri hai..sahi kiya aapne..baaki duniya mein sab tarah ke log hain..khud ko hi sabhalkar chalna padta hai !

    ReplyDelete
  19. सही बात है इस बुराई को रोकने के लिये यही करना पडेगा। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. सही कदम!
    आशीष
    --
    प्रायश्चित

    ReplyDelete
  21. Right step for scoundrels.
    Thank u 4 visiting my blog with encouraging comments.

    kunwar kusumesh

    ReplyDelete
  22. Trupti Ji,
    Aisi mansikta wale log khud ko hi expose karte hain...Aap chinta na karein aur likhti rahein.
    aapki satrein bahut bhavpoorn hain..
    Main bhi bina comments ki chinta kiye bagair likhta hun aur wahi likhta hun jo mahsoosta hun.
    Dhanyavad aapko aisi tucchhi mansiktawalon ko sabak sikhane ko.

    ReplyDelete

टिप्पणी के लिए आपका बहुत धन्यवाद. आपके विचारों का स्वागत है ...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...