Saturday, January 29, 2011

बस एक और हो जाये ....

हीरा (Diamond) है सदा के लिए .... जब भी ये विज्ञापन टीवी पे आता है तो मेरे ख्याल से हर लड़की और औरत की नजर उस तरफ मुड जाती है । मैं भी इस की दीवानी हूँ । सिर्फ इसलिए नहीं कि यह मेरी सौंदर्य में चार चाँद लगायेगा (वो तो है ही, इन बातों को मैं नकारुंगी नहीं) पर इसके सिवा भी एक और बात है, और वह यह है कि हीरा कुदरत की एक अनमोल भेंट है। इसके जडन-गढन का इतिहास मुझे ज्यादा आकर्षित करता है ।
इस लिए मुझे भी लगता है कि .... इन्द्रनिलजी
... और बसएक और हो जाए

आईये मै आपको इसकी सुन्दरता और कुछ ज़रूरी जानकारियों से रूबरू कराऊँ ।

हीरा - Diamond ग्रीक शब्द “adamas” से लियाया है जिसका मतलब है अटूट

हीरा दुनिया का सबसे कठोर वस्तु है । हीरा दरअसल कार्बन (कोयला ) का शुद्धतम रूप है ।

हीरे का निर्माण :

हीरा पृथ्वी के गर्भ में ऐसी जगह बनता है जहाँ का ता साधारणत २२०० डिग्री सेलसिअस और दबाव ५ गीगापास्कल होता है । ऐसी अवस्था ज़मीन से सामान्यतया १५० किलोमीटर के निचे होती है ।

व्यावसायिक रूप से हीरा ज्वालामुखी के स्फोटन से सबंधित खदानो से प्राप्त किया जाता है । जिसका प्रमुख उदहारण किम्बरले डीपोसिट (kimberlite and lamproite deposits) दक्षिण अफ्रीका है ।

इसके सिवा भी हीरे का एक और प्रकार है जिसे Black diamond या carbonado कहा जाता है और जो दक्षिण अमेरिका तथा अफ्रीका में पाया जाता है । माना जाता है कि उल्का पिंड / उल्कापात से बनता है ।

हीरे रंगहीन पारदर्शी या फिर अनेक रंगों में पाया जाते है रंग कुछ रचना की त्रुटि (lattice defects) के कारण तथा कुछ रासायनिक अशुद्धता के कारण होता है ।

हमारे भूभाग पर सबसे ज्यादा ४९ % हीरे मध्य तथा दक्षिण अफ्रीका में पाए जाते है। इसके अलावा कनाडा, भारत, रशिया, ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया में कई जगह पाए जाते है ।

भारत में पन्ना (मध्य प्रदेश) , कृष्णा, कडप्पा, गुंटूर, मोब्बतनगर, अनंतपुर ( सब खदाने दक्षिण भारत में हैं) इत्यादि जगहों पे हीरे पाए जाते हैं। अभी भारत में सिर्फ एक हीरे का खदा क्रियाशील है जो मध्यप्रदेश के पन्ना में स्थित है ।

कुछ भारतीय प्रसिद्ध हीरे :

कोहिनूर गोलकोंडा (आंध्रप्रदेश) के खदानों से प्राप्त किया गया था । कहा जाता है कि ये दुनिया का सबसे बड़ा हीरा था । इस का वजन उस वक्त १८६ केरेट था, जिसका आकार लगभग एक मुर्गी के अंडे के बराबर था । अभी इसका वजन १०५ केरेट (२१.६ ग्राम )है

Hope Diamond दुनिया का सबसे प्रसिद्ध नीला हीरा माना जाता है जो कि गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया गया है। आज हीरा अमेरिका का Natural History Museum में रखा गया है । इस हीरे को लेकर कई कहानियां प्रसिद्ध है । जिसमें कहा गया है कि हीरा देवी सीता के माथे से चुराया गया है और जो भी इसे छुता है या अपने पास रखने की कोशिश करता है उसका सर्वनाश होता है

Regent Diamond यह एक प्रसिद्ध पारदर्शी हीरा है जो १४०.६४ केरेट का है और अभी फ्रांस के पास है । यह हीरा भी गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया है ।

Sancy Diamond - यह हलके पीले रंग का हीरा गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया गया ! यह हीरा मुघलों के पास था । अभी ये हीरा फ्रांस के पास है ।

The Florentine Diamondहलके पीले रंग का १३७ केरेट का हीरा है जो गोलकोंडा के खदानों से प्राप्त किया गया था ।

उपयोगिता : रत्न के सिवा हीरे को बहुत सी व्यावसायिक प्रक्रिया में उपयोग किया जाता है ।हीरा दुनिया का सबसे कठोर वस्तु है । इसकी कठोरता (hardness) की वजह से इसे उद्योगों में पीसने या रगड़ने की वस्तु (abrasive ) तथा काटने के औजार (diamond drills, Blades ) के हिसाब से उपयोगिता में लाया जाता है। हीरे का उपयोग क्ष-किरण (X -Ray ) मशीन, कर्क रोग उपचार, प्रसाधन सामग्री इत्यादि में होता है ।

हीरा खरीदने से पहले इन ४ बातों का ध्यान रखना चाहिए, हालाँकि आज कल एक पांचवी बात भी ज़रूरी हो गई है ।

ये चार बातें हैं वो जिसे Diamond 4C बोला जाता है:

· Cut / काटने का ढंग

· Clarity / स्पष्टता

· Color / रंग

· Carat weight / कैरट/ रत्ती

और जो सब से जरुरी पांचवी बात है, वो है – Certificates यानि कि प्रमाणपत्र

इस के बारे में आप यहाँ पर विस्तार से पढ़ पाएंगे

http://www.thediamondbuyingguide.com/fourcsofdiamonds.html

http://en.wikipedia.org/wiki/Diamond

39 comments:

  1. heeron ke bare men bahut achhi jankari ,dhanyvad

    ReplyDelete
  2. हीरों के बारे में बढ़िया जानकारी दी है ...वैसे हमारे मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में आज भी हीरे बहुतायत से मिलते है ..जो अच्छी क्वालिटी के होते हैं ... आभार

    ReplyDelete
  3. हीरा के बारे में आपके द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी।
    यह सदा के लिए संजो कर रखने लायक है।
    इस अनोखी जानकारी के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. डॉ तृप्ति जी ,
    हीरे के बारे में इतनी विस्तृत जानकारी ....?
    शायद आपके पेशे से जुड़ा है ये विवरण ....
    कभी अपने व्यवसाय का भी ज़िक्र कीजिये न ...

    और हाँ ....इन्द्रनील जी की पोट्रेट की तस्वीर को
    उनके नाम के साथ ब्लॉग के साइड में कहीं लगा दें ...
    पर प्रोफाईल में अपनी सही तस्वीर लगायें ...

    ReplyDelete
  5. @Sunil Kumar, महेन्द्र मिश्र, mahendra verma

    आप सभी का धन्यवाद ....

    ReplyDelete
  6. @हरकीरत ' हीर'
    हाँ दीदी, ये जानकारी मेरे पेशे से जुडी है ... मैं पेशे से भूवैज्ञानिक हू ... मैं जरुर इस बारे में एक पोस्ट दूंगी....
    रही बात तस्वीर की तो मैंने आपको पहले ही कहा है कि इस स्टेंसिल को बनाने में इन्द्रनीलजी ने बहुत मेहनत की है... उनका प्यार मेरे लिए इसमें बहुत झलकता है ..... सो फिलहल तो इस तस्वीर को मै नहीं निकालूंगी पर आपका सुझाव बहुत अच्छा है

    ReplyDelete
  7. मेरे जैसे के लिए तो आपकी ये पोस्ट महत्वपूर्ण सन्दर्भ से कम नहीं है.
    हीरे के बारे में एक ही जगह इतनी और दुर्लभ जानकारी पाना बहुत ही अच्छा लगा.

    सादर

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर जानकारी दी है आपने| ये कैरेट की गणना कैसे की जाती है इस पर भी प्रकाश डालिए|और हां हीरा कठोर होता है कठिन नहीं|

    ReplyDelete
  9. इस अनोखी जानकारी के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  10. सारे बड़े हीरे गोलकण्डा से आये, अब गोलकण्डा के क्या हाल हैं।

    ReplyDelete
  11. लाभकारी पोस्ट.इस जानकारी के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  12. @ राणा प्रताप सिंह जी
    गलती की तरफ ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद ... सुधार कर दी गई है ...
    कैरेट के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए आप कृपया उपरोक्त लिंक में देखिये ...

    ReplyDelete
  13. @ प्रवीण पाण्डेय
    ऐतिहासिक समय से ही गोलकोंडा के आसपास के खदानों से हीरे निकाले जाते थे ... पर धीरे धीरे ये सब खदान बंद हो गए ... अब तो सबसे ज्यादा हीरा अफ्रीका के देशों में मिलता है ... भारत में अभी पन्ना में हीरे उत्खनन किये जाते हैं ...

    ReplyDelete
  14. बड़ी महंगी चीज़ों की जानकारी दी है जी...गोलकुंडा तो छा गया

    ReplyDelete
  15. डॉ तृप्ति जी ,

    आपकी जानकारी बहुत लाभदायक है ....देख लिए हीरे ..और बहुत तरह जान लिया उनके बारे में ....आपका शुक्रिया ...

    ReplyDelete
  16. indranil ...... heera upasthit kiya jaye , kyonki hai sada ke liye aur soch samajh ke asli heera , tripti ko sab pata hai

    ReplyDelete
  17. कई नई जानकारियां मिली हीरे के विषय में .... विस्तार से बताने के लिए आभार

    ReplyDelete
  18. knowledge
    in
    abundance ....

    wow !!

    ReplyDelete
  19. जब पहली बार जाना था कि हीरा कोयले का ही एक रूप है, बहुत हैरत हुई थी। लेकिन ये सच है, दबाव ही है न वो चीज जो कोयले को भी हीरे में बदल सकता है और कांच को चूर चूर कर देता है।
    रोचक तरीके से आपने हीरे के बारे में जानकारी दी है, शुक्रिया।

    ReplyDelete
  20. हीरे के बारे में वृस्तित जानकारी ..उम्दा पोस्ट ..आपके व्यवसाय से भी जूडी हो... किन्तु सोच रही हूँ ये गोलकुंडा से निकले बेशकीमती हीरे अपने देश में ना हो कर विदेशों की शोभा बड़ा रहें है... ऐसा क्यूं ... ( भारत की नाकाबिलियत जाहिर होती है.. चाहे इतिहास में ही हो ...)

    ReplyDelete
  21. तृप्ति जी , बहुत ही अच्छी एवम जानकारी परक पोस्ट. हीरे के बारे में इनती सुंदर जानकारी देने के लिये आभार.

    ReplyDelete
  22. हीरे के बारे में इतनी विस्तृत जानकारी !

    ReplyDelete
  23. हीरे के बारे में अद्भुत जानकारी देने के लिए शुक्रिया .
    बहुत बढ़िया लिखती हैं आप

    ReplyDelete
  24. डॉ तृप्ति जी ,
    सादर

    हीरे की चमक पुनः खींच लायी यहाँ ...अब तो सब कुछ सही से समझ लिया ...आपका आभार
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका तहे दिल से धन्यवाद ...आशा है आप अपना आशीर्वाद हमेशा बनाये रखेंगी ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  25. हीरे के बारे में विस्तृत जानकारी मिली !
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  26. ब्लॉग जगत में एक और जियोलॉजिस्ट से मिल अच्छा लगा. महत्त्वपूर्ण जानकारी सरल शैली में दी है आपने. शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  27. हीरे के बारे में इतनी विस्तृत जानकारी दी आपने .ज्ञानवर्धक है

    ReplyDelete
  28. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. लाभकारी पोस्ट.इस जानकारी के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  30. informative and educative blog yes i like it

    ReplyDelete
  31. डॉ तृप्ति जी ,
    हीरे के बारे में इतनी विस्तृत जानकारी ...
    इस जानकारी के लिए धन्यवाद
    ..

    ReplyDelete
  32. achchhi post par labhkari nahi..:D
    kyunki heera kharidne ki hasiyat nahi hai..:D
    aur agar hui to bata den...kohinoor heera kahan milega...apni shrimati ko dena hai...........:P

    ReplyDelete
  33. विस्तृत ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  34. जानकारी अच्छी लगी धन्यवाद.

    ReplyDelete
  35. एक अच्छा लेख और बढ़िया जानकारी के लिए आभार ! मशहूर हीरों की आज की कीमत आनुमानित कीमत भी लेख देतीं तो और रुचिकर लगता !! शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  36. Wow! It's a wonderful post on/about diamonds. I guess you forgot to include Cullinan diamond.

    ReplyDelete
  37. bahut khoob
    and you gave a good information about diamond

    nice blog
    check out mine blog
    and follow it if you like my posts
    http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

    ReplyDelete

टिप्पणी के लिए आपका बहुत धन्यवाद. आपके विचारों का स्वागत है ...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...