Thursday, March 10, 2011

१९ तारीख को चाँद आ रहा है मिलने ...

आज से नौ दिन बाद, यानि कि १९ मार्च को हमारा चिरपरिचित चाँद हमसे मिलने पृथ्वी के करीब आ रहा है । मज़े की बात यह है कि १८ सालों यह चाँद की पृथ्वी से निकटतम स्थिति होगी
इस घटना को, चंद्र भू - समीपक (lunar perigee) या फिर Supermoon कहा जाता है यह तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर अपने कक्ष में घुमते हुए पृथ्वी के निकटतम बिंदु तक पहुँच जाता है 19 मार्च को यह प्राकृतिक उपग्रह पृथ्वी से 221567 मील की दूरी पर होगा
इससे पहले यह स्थिति 1955, 1974, 1992, और 2005 में हुयी थी, और इन वर्षों में मौसम की स्थिति अपने
चरम हिस्से में थी कुछ लोगों का कहना है कि ऐसी स्थिति में पृथ्वी पर प्राकृतिक आपदाएं बढ़ जाती हैं, पर यह स्पष्ट नहीं है कि चंद्रमा का भू-समीपक और प्राकृतिक आपदाओं का कोई वैज्ञानिक योग है या फिर यह एक महज़ संयोग है यह तो तय है कि चंद्रमा की स्थिति पृथ्वी को प्रभावित करती है कई लोगों ने यह कहा है कि चाँद एक भूकंप की तरह कोई भूवैज्ञानिक घटना नहीं पैदा कर सकता है, केवल चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव के कारण समुद्र के पानी में ज्वार आ सकता है । और खास कर Supermoon की हालत में यह ज्वार सामान्य से अधिक ऊँचा हो सकता है जिससे तटीय इलाके में समस्या पैदा हो सकती
ज़ाहिर है कि ऐसी स्थिति में चाँद एक सामान्य पूर्णिमा की तुलना में बड़ा और उज्जवल होगा
मेरा सुझाव है कि हमें इस मौके को नहीं खोना चाहिए और उस रात को उस विशालकाय चाँद को ज़रूर देखना चाहिए

30 comments:

  1. awashy dekhungi... ek baat aur , tumne apna gyaan baantker achha kiya, warna main vanchit rah jati

    ReplyDelete
  2. आभार जानकारी का.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया जानकारी के लिए आभार|

    ReplyDelete
  4. चाँद की निकटता से सौन्दर्य का कोई बोध नही?

    ReplyDelete
  5. wow...!!! मतलब होली की शाम रोशन होगी... बताने के लिए थैंक्स.... :)

    ReplyDelete
  6. जरूर देखेंगे ! उपयोगी सूचना के लिए आभार !

    ReplyDelete
  7. इस अनोखे अवसर की जानकारी और याद दिलाने के लिए शुक्रिया। वैसे 19 की रात तो आमतौर पर हर हिन्‍दुस्‍तानी बाहर ही होगा,क्‍योंकि उस रात होली जलेगी।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर जानकारी !!

    ReplyDelete
  9. हम भी यह चाँद ज़रूर देखेंगे!

    ReplyDelete
  10. एकदम latest जानकारी दी आपने.धन्यवाद.

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया ब्लॉग तृप्ति जी!
    अमूमन हिन्दी ब्लॉग हिन्दी भाषा और साहित्यकारी की पूअर कॉपी होते हैं। पर यहां कुछ पोस्टें देख लगता है कि एक जीवन्त व्यक्तित्व सम्प्रेषण कर रहा है। आप जरा समय दीजिये और निरन्तरता बनाइये।
    आपके विषयों का वैविध्य अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  12. bouth he aacha blog hai aapka.. keep it up
    Visit my blog plz
    Download Music
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  13. Its indeed a very informative post...Thanks.

    ReplyDelete
  14. बडे काम की बात बताई आपने। कोशिश रहेगी की इस सुअवसर का लाभ उठाया जाए।

    ---------
    पैरों तले जमीन खिसक जाए!
    क्या इससे मर्दानगी कम हो जाती है ?

    ReplyDelete
  15. चांद का धरती
    के नजदीक आने का असर होने लगा.
    जापान मे सदी का सबसे बड़ा भूकंप आया है
    उसमे इतने लोग मर रहे कि अंदाजा लगाना ही मुश्किल है

    ReplyDelete
  16. @Rohit,
    Please do not link up two unrelated things just because their times of occurrence are close together. Moreover, 19th is still to come. It is better that we do not act as doomsdat sootsayers.
    This earthquake is not due to the Supermoon phenomena, In fact Moon's gravitational force is hardly strong enough to cause any major change in the tectonic structure. Earthquakes occur due to geological phenomena and not due to moon's gravitational force.
    Pls refer to these links for your kind information.
    http://sb.samwaad.com/2011/03/blog-post_07.html
    http://sb.samwaad.com/2010/10/blog-post_29.html

    ReplyDelete
  17. इस अवसर की प्रतीक्षा है ...आपकी इस बेहतरीन प्रस्‍तुति का आभार ।

    ReplyDelete
  18. @Rohit

    Moreover, this earthquake is not the biggest or strongest earthquake of the 21st century. With a magnitude of 8.9 on Richter scale it may come second to the Sumatra Earthquake of 2004 which had a magnitude of 9.1 to 9.2.

    ReplyDelete
  19. तृप्ति जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    चांद एक सामान्य पूर्णिमा की तुलना में बड़ा और उज्जवल होगा
    अच्छा !
    … देखना पड़ेगा तब तो … हम जैसे कवि शायर तो हर चांद से प्रेरणा ले'कर सृजन करते हैं … :)

    ज्ञानवर्द्द्धक पोस्ट के लिए आभार और बधाई !

    विश्व महिला दिवस की हार्दिक बधाई !
    शुभकामनाएं !!
    मंगलकामनाएं !!!

    ♥मां पत्नी बेटी बहन;देवियां हैं,चरणों पर शीश धरो!♥


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  20. ऐसा तो हर पखवारे में एक बार होता है क्योकि लगभग एक माह में चाँद धरती का एक चक्कर लगा देता है और अंडाकार पथ में महीने में दो बार निकटस्थ और दूरस्थ होता है -यह एक बकवास है जिसे कुछ गपोड़ियों ने अफवाह का रूप दे दिया है !

    ReplyDelete
  21. trupti ji namaskar. pehli baar aya hu. aur apki kaafi post's parhi sach main bahut aacha laga. chand to jaroor dekhenge aab. heera pehle hi pehna hua hai. par agli baar jab loonga to certificate dekh kar hi aur aapki profile picture k bare main parh kar aur apki poem's bhi acchi lagi. vaise apki purani profile picture to kaafi logo ne pehle hi net par dekhi hogi lekin aapne jo uske bare main jaankari d hai vo bhi aachi lagi. shukriya

    ReplyDelete
  22. इस बात को लेकर कुछ विवाद उत्पन्न हुए हैं ... इसलिए मैं यहाँ कुछ तथ्य सामने लाना ज़रूरी समझती हूँ ...
    सबसे पहले तो मैं ये साफ़ कर दूं कि पृथ्वी के चारों तरफ घूमते हुए चाँद का कक्षपथ पूरी तरह से गोल नहीं है बल्कि अंडाकार है । चाँद कभी पृथ्वी के नज़दीक आता है तो कभी दूर जाता है । चाँद को पृथ्वी के चारों तरफ एक चक्कर लगाने में २७ दिन लगते हैं । तो २७ दिन में एक बार वो पृथ्वी के पास आता है जिसे भू-समीपक (perigee) कहते हैं । यह भू-समीपक औसतन ३६४३९५ किमी का होता है । लेकिन कुछ सालों के अंतर में यह पेरिजी औसत से कम हो जाता है । ऐसे वक्त चाँद हमेशा से ज्यादा बड़ा और उज्जवल दिखता है ।
    इस बार यह भू-समीपक ३५६५७७ किमी का होने वाला है और १८ सालों में यह चाँद का पृथ्वी से निकटतम स्थिति होगी । लेकिन दूरी का यह पार्थक्य इतना कम है कि हकीकत में इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है । वैसे भी चाँद का गुरुत्वाकर्षण शक्ति इतनी नहीं है कि इससे पृथ्वी पर ज्वार-भाटा के अलावा कोई खास फर्क पड़े । इसलिए इस बार भी कोई ऐसा प्रभाव पड़ने वाला नहीं है जैसे कि कई लोग, खासकर कुछ ज्योतिषी कह रहे हैं । सामान्य से कुछ ऊँचा ज्वार उठ सकता है बस, जिससे तटवर्तीय इलाकों में रहने वालों के लिए मामूली मुश्किलें आने की संभावना के बारे में कहा जा सकता है पर ये भी तय नहीं है । इसलिए आप लोग बिलकुल निश्चिन्त रहिये ... ये जो ज्योतिषी आप सबको भरमाने की कोशिश में लगे हुए है ... उसपे बिलकुल ध्यान न दें ।
    भूकंप, ज्वालामुखी इत्यादि बातों का इससे कोई लेना देना नहीं होता है । उनका कारण अलग होता है ।

    ReplyDelete
  23. तृप्ति जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    चांद एक सामान्य पूर्णिमा की तुलना में बड़ा और उज्जवल होगा
    अच्छा !
    … देखना पड़ेगा तब तो … हम जैसे कवि शायर तो हर चांद से प्रेरणा ले'कर सृजन करते हैं … :)

    ):):

    राजेन्द्र जी की पंक्तियाँ चुरा रही हूँ .....

    ReplyDelete
  24. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  25. ज्ञान वर्धक आलेख ....देरी के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ

    ReplyDelete
  26. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  27. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.

    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete

टिप्पणी के लिए आपका बहुत धन्यवाद. आपके विचारों का स्वागत है ...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...